पीएम मोदी ने कहा, सभी दलों से सहयोग की अपील - NDTV India     |       Doctors Strike: IMA की देशव्यापी हड़ताल शुरू, AIIMS में 12 बजे से ठप हो जाएगी ओपीडी - दैनिक जागरण     |       कभी साइकिल की दुकान चलाते थे प्रोटेम स्पीकर डॉ वीरेंद्र कुमार, जानिए उनके बारे में - अमर उजाला     |       चमकी बुखार: मुजफ्फरपुर में स्वास्थ्य मंत्री डॉ हर्षवर्धन के सामने बच्ची ने तोड़ा दम - आज तक     |       बिहार में लगातार बढ़ रहा है चमकी बुखार का प्रकोप, मुजफ्फरपुर के बाद कई और जिलों में फैली बीमारी - ABP News     |       ‘जिस टीम से है लगाव, उसकी जीत पर लोग मना सकते हैं खुशी’, महबूबा मुफ्ती के इस ट्वीट पर लोग मार रहे ताने - Jansatta     |       World Cup 2019: बिना आउट हुए ही चलते बने कोहली, ड्रेसिंग रूम में जाकर निकाली भड़ास - अमर उजाला     |       World Cup कोई भी क्रिकेट टीम जीते, जश्न के लिए नहीं मिलेगी ICC ट्रॉफी - आज तक     |       World Cup 2019: भारत की पाकिस्तान पर जीत के बाद जम्मू-कश्मीर में मानो दिवाली हो - अमर उजाला     |       India vs Pakistan ICC world cup 2019: विराट ने अपना विकेट पाकिस्तान को गिफ्ट किया, खुद ही लौट गए पवेलियन! - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       खबरदार: डॉक्टरों की मांगे स्वीकारने के बाद भी 'जिद' पर अड़ीं ममता? - आज तक     |       Jammu Kashmir: अनंतनाग में सुरक्षाबलों ने दो आतंकी मार गिराए, मेजर सहित तीन जवान घायल Jammu News - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Monsoon Updates: 2-3 दिनों में आगे बढ़ेगा मानसून, जानें दिल्‍ली में कैसा रहेगा मौसम - Times Now Hindi     |       क्राइम/ धर्म छिपाकर यूपी के मंदिर में विवाह किया रांची में किया निकाह, 5 साल बाद दिया तलाक - Dainik Bhaskar     |       पाक ने कट्टरपंथी अधिकारी फैज हमीद को चुना आईएसआई का चीफ, मुनीर को 8 महीने में ही हटाया - Navbharat Times     |       दक्षिण अमेरिका के तीन देश अंधेरे में डूबे, गलियों और सड़कों पर सन्नाटा पसरा - Hindustan हिंदी     |       शंघाई समिट/ लीडर्स लाउंज में मोदी से मिले इमरान, इससे पहले दो बार भारतीय पीएम ने उन्हें नजरअंदाज किया था - Dainik Bhaskar     |       अमेरिका/ भारतवंशी परिवार के 4 लोगों की हत्या, हमलावरों ने घर में घुसकर गोली मारी - Dainik Bhaskar     |       Maruti दे रही है Vitara Brezza पर सबसे बड़ा डिस्काउंट, लेकिन मौका आखिरी है - अमर उजाला     |       यहां देखें Tata की नई कार Altroz का टीजर, जल्द भारत में होने वाली है लॉन्च - आज तक     |       मारुति ने वैगन आर का नया मॉडल किया लांच, जानें कीमत - Goodreturns Hindi     |       नई Mahindra Scorpio की तस्वीरें फिर लीक, जानें डीटेल - Navbharat Times     |       शाहरुख के बेटे आर्यन लीड रोल करने को हुए राजी, पिता संग इस फिल्म में करेंगे काम - अमर उजाला     |       सोना महापात्रा ने सलमान खान को बताया पेपर टाइगर - नवभारत टाइम्स     |       नया विवाद/ ऋतिक की फिल्म सुपर-30 की रिलीज रुकवाने आईआईटी स्टूडेंट कर रहे तैयारी - Dainik Bhaskar     |       जब Shilpa Shetty मेरे एक्स बॉयफ्रेंड Akshay Kumar को डेट रही थीं हम तब भी दोस्त थे : Raveena Tandon - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       ICC World Cup 2019: हार के बाद श्रीलंका की शर्मनाक हरकत, ICC लगा सकता है जुर्माना - Hindustan     |       सचिन तेंदुलकर की बेटी सारा ने दी शुभमन गिल को बधाई पांड्या ने यूं की टांग खिंचाई - Zee News Hindi     |       वे 6 मौके जब भारत ने PAK का तोड़ा गुरूर, फैंस को दिया जीत का तोहफा - cricket world cup 2019 AajTak - आज तक     |       रोहित-राहुल ने रचा इतिहास, तोड़े पाकिस्तान के खिलाफ विश्व कप में साझेदारी के सारे रिकॉर्ड - अमर उजाला     |      

राज्य


बिजली संकट से परेशान बनारस के बुनकरों का दर्द कौन सुने!

जब पूरा बनारस इस सप्ताह के अंत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दूसरी बार ताजपोशी की तैयारी में जुटा रहा, शहर के बुनकर बिजली की समस्या को लेकर चिंतित और परेशान रहे।


who-wears-the-pain-of-weavers-of-benares-troubled-by-power-crisis

बिजली संकट के कारण उनके कारोबार में गिरावट आई है और उनके सामने आजीविका की समस्या उत्पन्न हो रही है। अधिकांश बुनकर मुस्लिम समुदाय से हैं, जो अपनी समस्या के बारे में बात करने में भी एहतियात बरतते हैं। लंका क्षेत्र में अपनी दुकान बंद करने की योजना बना रहे रफीक अंसारी ने कहा, "पहले नोटबंदी ने हमें मारा और उसके बाद जीएसटी आ गया और फिर अब बिजली हमारे कारोबार के लिए आफत बन गई है। हमारी जिंदगी का ताना-बाना ही बिगड़ गया है।"

रफीक ने कहा कि यहां के बुनकर इस समस्या पर बात करने के लिए भी तैयार नहीं हैं, क्योंकि पूरा माहौल राजनीति के आसपास घूम रहा है। उन्होंने बताया, "अगर हम कुछ कहेंगे तो हमें 'राष्ट्र-विरोधी' का तमगा थमा दिया जाएगा। हमने चुप रहने का निर्णय लिया है। वाराणसी में बिजली कटौती एक नियम बन गया है। चूंकि मुस्लिम मुहल्लों में मिश्रित आबादी वाले मुहल्लों की तुलना में अधिक बिजली कटौती होती है, लिहाजा हम वस्तुस्थिति को समझ सकते हैं।" रफीक ने कहा कि क्षेत्र में खराब इंटरनेट सेवा से भी ऑनलाइन व्यापार को हानि पहुंची है। उन्होंने कहा, "नोटबंदी के पहले खरीदारों और विक्रेताओं सभी के लिए व्यापार अच्छा था। नोटबंदी के बाद खरीदारों ने आना बंद कर दिया और जीएसटी ने बनारसी साड़ी और सामग्री के निर्यात को झटका दिया।"

अधिकतर बुनकर चूंकि अशिक्षित और कंप्यूटर चलाने के अभ्यस्त नहीं हैं, इसलिए उन्हें सीए के लिए अतिरिक्त खर्च वहन करना पड़ता है, जो उन्हें जीएसटी रिटर्न भरने में मदद करते हैं। रफीक के छोटे भाई शादाब अंसारी ने कहा कि बुनकर समुदाय ने 2009 में बनारसी साड़ी और सामग्री के लिए भौगोलिक सूचकांक (जीआई) प्राप्त किया था। शादाब ने कहा, "हमारे यहां सब्यसाची और तरुण तहलियानी जैसे डिजाइनर आते थे और हमारी साड़ी और सामग्री खरीदते थे। हमारा व्यापार जबरदस्त चल रहा था, हमें श्रेय भी मिल रहा था। लेकिन अब व्यापार अब तक के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया है। कोई भी बिजली कटौती की बात नहीं करता, क्योंकि हर कोई यह विश्वास करना चाहता है कि प्रधानमंत्री का संसदीय क्षेत्र दुनिया में सबसे बेहतरीन है।"

अधिकतर बुनकरों का कहना है कि जनरेटर को विकल्प के रूप में अपनाना फायदेमंद सौदा नहीं है, क्योंकि उत्पादन लागत में बढ़ जाती है। उन्होंने कहा कि वाराणसी में व्यापार को फायदा पहुंचाने के लिए निर्मित दीनदयाल हस्तकला संकुल इसके उद्देश्यों को पूरा नहीं कर पाया।

आजमगढ़ के मुबारकपुर के निवासी और यहां 1980 से रह रहे रहमतुल्लाह अंसारी ने कहा, "वाराणसी में बुनकरों को बढ़ावा देने के लिए कोई गंभीर प्रयास नहीं किया गया। देश के विभिन्न भागों में खरीदारों के साथ सीधे सौदा करना हमारे लिए आसान होता है। व्यापार को इतने बड़े पैमाने पर हानि हुई है कि हमारे दो पोते नौकरी खोजने के लिए पहले ही मुंबई जा चुके हैं।" उन्होंने कहा, "मेरा मानना है कि अगले दशक और उसके आगे, अधिकतर बुनकर परिवार इस पेशे को छोड़ देंगे।

यह सुनने में आश्चर्य लगेगा, लेकिन 'नमामि गंगे' परियोजना भी बुनकरों के लिए अच्छा साबित नहीं हुआ है। एक बुनकर ने नाम उजागर न करने की शर्त पर कहा, "हमें रंग भी गंगा में प्रवाहित करने की इजाजत नहीं है और सरकार ने फिल्टर संयंत्र नहीं लगाए हैं। किसी को भी नदी में रंग को प्रवाहित करते देख तत्काल जुर्माना लगाया जाता है। जुर्माना ज्यादा होता है, अगर बुनकर मुस्लिम हों। मगर हम रो भी नहीं सकते।"

advertisement