मुख्यमंत्री केजरीवाल पर सचिवालय में मिर्च पाउडर फेंकने से पहले शख्स ने कहा- 'आप ही से उम्मीद है'     |       ओडिशा / महानदी पर बने पुल से नीचे गिरी बस, 30 यात्री सवार थे; 7 की मौत     |       हल्द्वानी निकाय चुनाव नतीजे Live: 29 सीटों पर निर्दलीय, 12 पर BJP जीती     |       जाको राखे साइयांः बच्ची के ऊपर से गुजरी ट्रेन, नहीं आई एक भी खरोंच     |       दिल्ली में पकड़ा गया हिज्‍बुल का आतंकी, SI इम्तियाज की हत्या में था शामिल     |       दिल्ली में दो आतंकियों के घुसने की आशंका, अलर्ट पर पुलिस- जारी की फोटो     |       दीपिका रणवीर की शादी का बिग फोटो एलबम, हल्दी, मेंहदी, डांस और रस्म की तस्वीरें     |       एमपी के सीएम शिवराज की खाने की थाली में दिख रहा मीट, फर्जी फोटो हो रही वायरल     |       सोशल मीडिया / ब्राह्मण विरोधी पोस्टर थामकर विवादों में आए ट्विटर के सीईओ, कंपनी ने माफी मांगी     |       मिल्‍खा सिंह ने भी दौड़ना बंद किया था मैडम, थैंक यू- सुषमा स्वराज को पति का जवाब     |       सिख दंगों में फैसला सुनकर काशी में भी छलक पड़े आंसू     |       ICC में हारा पाकिस्तान, अब खर्च वसूलने को भारत करेगा केस     |       ममता कैबिनेट से मंत्री शोभन चटर्जी ने दिया इस्तीफा     |       ब्रजेश ठाकुर की करीबी मधु को CBI ने हिरासत में लिया, पूछताछ जारी     |       अयोध्या विवाद: कानून बनाकर हल निकालने वाले बयान से पलटे इकबाल अंसारी     |       भारत-रूस के बीच दो युद्धपोत बनाने का करार, अमेरिकी धमकियों के बावजूद बढ़ा सैन्य सहयोग     |       मध्य प्रदेश: विधानसभा चुनाव में गठबंधन करके BSP को खत्म करना चाहती थी कांग्रेस- मायावती     |       सरकार की इस स्कीम में 10 हजार रुपए तक मिल सकती है पेंशन, आप भी उठा सकते हैं फायदा     |       BJP को कश्मीर में बड़ा झटका, लद्दाख को केंद्रशासित प्रदेश नहीं बनाया तो सांसद ने दिया इस्तीफा     |       फर्जी डिग्री मामला : डूसू के पूर्व अध्यक्ष के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज     |      

राजनीति


फाइलों पर क्यों कुंडली मार कर बैठते हैं शिवराज सिंह चौहान, ये मामला तो चुनाव आयोग तक जा पहुंचा

फाइल को सीएम दफ्तर ने गजट में नोटिफाई होने के लिए भेज दिया, 7 अक्टूबर को यह नोटिफाईड हुई। जबकि 6 अक्टूबर के दोपहर में पांच प्रदेशों में चुनाव की घोषणा हो गई। वहीं बाद में सरकार ने दावा किया कि इसे 6 अक्टूबर की सुबह नोटिफाई कर दिया गया था


why-do-people-sit-on-the-files-shivraj-singh-chauhan-this-matter-has-reached-the-election-commission

शिवराज सिंह चौहान की कार्यशैली से केंद्रीय नेतृत्व कभी भी खुश नहीं रहा है, वैसे भी किसी फाइल पर कुंडली मार कर बैठने की उनकी पुरानी आदत है।

जैसे इन्फॉरमेशन कमिश्नर की बहाली वाली फाइल को शिवराज ने इस 2 अक्टूबर को क्लीयर की, इस फाइल में 3 आईएएस, 1 आईपीएस और एक भाजपा करीबी पत्रकार के नाम शामिल हैं।

फिर इस फाइल को सीएम दफ्तर ने गजट में नोटिफाई होने के लिए भेज दिया, 7 अक्टूबर को यह नोटिफाईड हुई। जबकि 6 अक्टूबर के दोपहर में पांच प्रदेशों में चुनाव की घोषणा हो गई। वहीं बाद में सरकार ने दावा किया कि इसे 6 अक्टूबर की सुबह नोटिफाई कर दिया गया था।

इस मामले ने तूल पकड़ा और यह चुनाव आयोग तक जा पहुंचा, चुनाव आयोग ने फिलहाल इन नियुक्तियों पर रोक लगा दी है। सनद रहे कि शिवराज पिछले 21 महीनों से इस फाइल पर कुंडली मार कर बैठे थे। 
 

advertisement

  • संबंधित खबरें