फैसला/ आलोक वर्मा के बाद अस्थाना सहित 4 और अधिकारी पद से हटाए गए - Dainik Bhaskar     |       बीएसएफ में खराब खाने का आरोप लगाने वाले जवान तेज बहादुर के बेटे की संदिग्ध हालत में मौत - नवभारत टाइम्स     |       आयुष्‍मान भारत के मुरीद बिल गेट्स, मोदी सरकार के लिए कही ये बात - Business - आज तक     |       गुजरात/ मोदी ने अहमदाबाद के शॉपिंग फेस्टिवल में खरीदी शॉल, रुपे कार्ड से किया पेमेंट - Dainik Bhaskar     |       Skeletons spotted inside Meghalaya mine where 15 miners got trapped over a month ago - Times Now     |       कर्नाटक में BJP का 'ऑपरेशन कमल' फ्लॉप, नेता संत स्वामी की बीमारी का बहाना बना कर घर लौटे - News18 Hindi     |       News18 Explains: Dissent Within Judiciary Over Collegium Recommendations In Judicial Appointments - News18     |       मायावती भतीजे आकाश को बसपा में शामिल कर विरोधियों को देंगी जवाब - Hindustan     |       यूके/ ब्रेग्जिट डील फेल होने के बाद संसद में थेरेसा मे अविश्वास प्रस्ताव में जीतीं, 19 वोटों से बचाई सरकार - Dainik Bhaskar     |       बोगोटा ब्लास्ट: कार बम धमाके में कम से कम नौ लोगों की मौत - BBC हिंदी     |       देखें, चीनी कंपनी ने अमानवीयता की हदें पार कीं, कर्मचारियों को सड़क पर घुटनों के बल चलाया - नवभारत टाइम्स     |       SHOCKING: Chinese company forces employees to crawl on roads for failing to meet year-end targets - Watch - Times Now     |       Rupee opens 9 paise higher at 71.15 against US dollar - Times Now     |       Vistara 4th anniversary sale! Book tickets starting at Rs 899. Details here - Times Now     |       बुधवार को मामूली गिरावट के बाद फिर बढ़े पेट्रोल डीजल के दाम, जानें आज के भाव - NDTV India     |       RIL ने किया 'कमाल', ऐसा करने वाली देश की इकलौती प्राइवेट कंपनी, मुकेश अंबानी ने कहा- शुक्रिया - Zee Business हिंदी     |       Miley pregnancy rumours - Entertainment News - Castanet.net     |       सलमान खान को दोस्त बता कर कंगना रनौत ने ज़ाहिर कर दी अपनी इच्छा - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       Victoria Beckham uses moisturiser made from her own blood - gulfnews.com     |       Hero Vardiwala Trailer: पहली भोजपुरी वेब सीरीज में निरहुआ-आम्रपाली - आज तक     |       MS Dhoni on cusp of achieving new milestone in 3rd ODI against Australia at MCG - Times Now     |       Australian Open: Kei Nishikori survives huge scare against Ivo Karlovic - Times Now     |       ...बस एक जीत और, विराट रच देंगे ऑस्ट्रेलिया में इतिहास - Sports AajTak - आज तक     |       जेसन गिलेस्‍पी ने भारत को बताया वर्ल्‍डकप-2019 का खिताबी दावेदार, बुमराह की तारीफ में कही यह बात - NDTV India     |      

संपादकीय


शून्य दुर्घटना का संकल्प लेने वाली सरकार के शासन काल में इसकी भरमार क्यों है

प्रबंधन के लिए रेलवे अधिकारियों की बढ़ोतरी कई गुना हुई पर परिचालन के लिए जिम्मेदार कर्मचारियों की संख्या लगभग आधी हो गई। स्टेशन मास्टर को प्रथमदृष्टया दोषी मानने के बावजूद हमेशा की तरह इस दुर्घटना की जांच के आदेश दे दिए गए हैं। सर्वविदित है आगे क्या होगा


why-is-the-governments-is-silent-over-its-promises-on-zero-accident-policy

एक और बड़ी रेल दुर्घटना। 9 डिब्बे पटरी से उतरे, सात मरे और बहुत से घायल। देश में भीषण रेल दुर्घटनाओं का सुदीर्घ इतिहास है।

हो सकता है जानमाल की दृष्टि से यह दुर्घटना बहुत बड़ी न लगे पर घायल या मौतों की संख्या कम होने जाने से फरक्का मेल की इस रेल दुर्घटना को कम कर के नहीं आंका जा सकता।

शून्य दुर्घटना का संकल्प लेने वाली रेलवे की हालत यह है कि 2016 के नवंबर से अब तक कई रेल दुर्घटनायें हो चुकी हैं। जिन दुर्घटनाओं में जान नहीं जाती उनका जिक्र तक नहीं होता।

सबब यह कि देश में आये दिन रेल दुर्घटनायें होती ही रहती हैं जिनमें जान का नुकसान कम या माल का ज्यादा नहीं होता, वे सुर्खियों का सबब नहीं बन पातीं पर छोटी ही सही, वे भी दुर्घटनाओं में ही गिनी जानी चाहिए, उसके लिए भी रेलवे का प्रबंधन, तकनीकी खामी अथवा व्यवस्था ही दोषी होती है। 

दो बरस पहले रेलवे में संरक्षा और सुरक्षा पर संसद की स्थायी समिति ने अपनी रिपोर्ट में लिखा कि रेल परिचालन में सुरक्षा के साथ कोई समझौता नहीं किया जा रहा है, वह रेल मंत्रालय के इस तर्क से संतुष्ट नहीं है। उसने चेताया कि मंत्रालय सुरक्षा की गंभीरता को समझे।

डिब्बों के टकराने, पटरी से उतरने, रेलगाड़ी में आग लगने और समपार आदि पर हुई 100 से अधिक रेल दुर्घटनाओं में रेलवे की कोई न कोई चूक शामिल थी जिससे बचा जा सकता था।

सच बात तो यह है कि सब इच्छाशक्ति और निष्ठापूर्ण कर्तव्य निर्वहन की कमी और प्रचार की अतिशय भूख के साथ कुप्रबंधन को ढंकने का नतीजा है।

रेलवे यदि अपनी सभी पुरानी दुर्घटनाओं की ईमानदार जांच करें, वह केवल तकनीक, मशीनों, छोटे कर्मचारियों पर थोपने और उसकी रिपोर्ट संबंधित महकमे को बचाने के लिए महज लीपापोती के लिए न हों तो हर तरह की खामियां सामने आ सकती हैं।

देश में छोटी-बड़ी रेल दुर्घटनायें बहुतायत में होती हैं, इसकी ईमानदार जांच तकनीक और व्यवस्था में एक से एक बारीक खामी को पकड़ सकती है। बड़ी रेल दुर्घटनाओं की वजहें दर्जन भर से ज्यादा नहीं हैं। 

इनको दूर करने पर ध्यान केंद्रित कर कुशलतापूर्वक कार्य किया जाए तो मंत्रालय शून्य दुर्घटना के लक्ष्य के करीब पहुंच भी सकता है। पर इतना कौन कहे रेलवे तो अपने रुटीन और मूलभूत काम भी नियमित नहीं करता।

हर दस साल पर रेल की पटरी बदलनी चाहिए। क्या इस लक्ष्य पर काम होता है। सात दशकों में पटरियां खूब बिछीं, नेताओं की मांग पर ट्रेनें कई चलीं। 

इनके प्रबंधन के लिए रेलवे अधिकारियों की बढ़ोतरी कई गुना हुई पर परिचालन के लिए जिम्मेदार कर्मचारियों की संख्या लगभग आधी हो गई। स्टेशन मास्टर को प्रथमदृष्टया दोषी मानने के बावजूद हमेशा की तरह इस दुर्घटना की जांच के आदेश दे दिए गए हैं। सर्वविदित है आगे क्या होगा।

विगत दुर्घटनाओं की जांच का क्या हुआ? जांच की घोषणा महज रस्म अदायगी है। रेल मंत्रालय हमेशा जनता की जेब पर नजर गड़ाए रखने और प्रचार पिपासु होने की बजाय अपनी आधारभूत संरचना, कर्मचारियों की संख्या, संरक्षा-सुरक्षा पर ध्यान दे, तो दुर्घटनाओं में कमी लाई जा सकती है।

पर मंत्री बदलने मात्र से व्यवस्था तो नहीं बदलती। सवाल यह है कि शून्य दुर्घटना का संकल्प लेने वाली सरकार के शासन काल में इसकी भरमार क्यों है?

advertisement

  • संबंधित खबरें