आजमगढ़ से लोकसभा चुनाव लड़ेंगे अखिलेश यादव Lok Sabha elections: Akhilesh Yadav to contest from Azamgarh - Lok Sabha Election 2019 - आज तक     |       बीजेपी ने राहुल पर लगाया आय से अधिक संपत्ति का आरोप, कहा- 55 लाख रुपये 9 करोड़ में कैसे बदले - नवभारत टाइम्स     |       सपा ने जारी की स्टार प्रचारकों की लिस्ट, मुलायम सिंह यादव का नाम शामिल नहीं - Hindustan     |       लोकसभा अपडेट्स/ कैलाश ने भोपाल से लड़ने की इच्छा जताई, कहा- नाथ और सिंधिया ने दिग्विजय को फंसा दिया - Dainik Bhaskar     |       Chinook पर है दुनिया के 26 देशों का भरोसा, कई जगहों पर निभा चुका है बड़ी भूमिका - दैनिक जागरण (Dainik Jagran)     |       चुनाव नहीं लड़ेंगी उमा भारती, भाजपा ने दी बड़ी जिम्मेदारी- Amarujala - अमर उजाला     |       टिकट कटा तो शत्रुघ्न बोले- हर एक्शन का रिएक्शन होता है, आडवाणी जी के साथ अन्याय - आज तक     |       लोकसभा चुनाव 2019: CPI की टिकट पर बेगूसराय से चुनाव लड़ेंगे कन्हैया कुमार– News18 हिंदी - News18 इंडिया     |       पाक में हिंदू लड़कियों के अपहरण और जबरन धर्म परिवर्तन पर भारत का रुख सख्त, मांगी रिपोर्ट - दैनिक जागरण     |       लोकसभा चुनाव 2019: बीजेपी ने काटा शांता कुमार और कड़िया मुंडा का टिकट- पांच बड़ी ख़बरें - BBC हिंदी     |       पाकिस्तान के नेशनल डे पर क्या पीएम मोदी ने इमरान खान को भेजी हैं शुभकामनाएं - Webdunia Hindi     |       पाकिस्तान में 121 सालों से जंजीरों में जकड़ा है ये पेड़, दिलचस्प है गिरफ्तारी की वजह- Amarujala - अमर उजाला     |       Tata Motors to hike passenger vehicle prices by up to Rs 25,000 from April - Times Now     |       Karnataka Bank reports Rs 13 crore fraud to RBI - Times Now     |       Airtel और Vodafone ने रिवाइज किया 169 रु का प्लान, जानें क्या Jio के 149 रु से है बेहतर - दैनिक जागरण     |       Hyundai Styx देगी Vitara Brezza और Mahindra XUV300 को टक्कर, यहां देखें टीजर - Jansatta     |       फिल्मफेयर 2019: आलिया की फिल्म पर हुई अवॉर्ड्स की बारिश - आज तक     |       जयललिता की बायॉपिक के लिए 24 करोड़ रुपये फी लेंगी कंगना रनौत? - नवभारत टाइम्स     |       Kesari Box Office Collection Day 3: अक्षय कुमार की फिल्म 'केसरी' की धाकड़ कमाई, तीन दिन में कमा लिए इतने करोड़ - NDTV India     |       ट्रेलर रिलीज होते ही ट्रोल हुई `PM नरेंद्र मोदी`, कहीं उल्टा न पड़ जाए दांव - Sanjeevni Today     |       IPL 2019: Ahead of RCB opener vs CSK, Virat Kohli gives fitting reply to Gautam Gambhir's 'captaincy' jibe - Times Now     |       आईपीएल/ पहले मैच में विलियम्सन के खेलने पर संशय, भुवनेश्वर संभाल सकते हैं हैदराबाद की कमान - Dainik Bhaskar     |       धोनी-कोहली हुए पिच से निराश तो हरभजन सिंह बोले जब ज्यादा रन बनते हैं तो कोई शिकायत नहीं करता - India TV हिंदी     |       अयाज मेमन की कलम से/ टी-20 में ना कोई फेवरेट होता है, ना ही अंडरडॉग - Dainik Bhaskar     |      

संपादकीय


शून्य दुर्घटना का संकल्प लेने वाली सरकार के शासन काल में इसकी भरमार क्यों है

प्रबंधन के लिए रेलवे अधिकारियों की बढ़ोतरी कई गुना हुई पर परिचालन के लिए जिम्मेदार कर्मचारियों की संख्या लगभग आधी हो गई। स्टेशन मास्टर को प्रथमदृष्टया दोषी मानने के बावजूद हमेशा की तरह इस दुर्घटना की जांच के आदेश दे दिए गए हैं। सर्वविदित है आगे क्या होगा


why-is-the-governments-is-silent-over-its-promises-on-zero-accident-policy

एक और बड़ी रेल दुर्घटना। 9 डिब्बे पटरी से उतरे, सात मरे और बहुत से घायल। देश में भीषण रेल दुर्घटनाओं का सुदीर्घ इतिहास है।

हो सकता है जानमाल की दृष्टि से यह दुर्घटना बहुत बड़ी न लगे पर घायल या मौतों की संख्या कम होने जाने से फरक्का मेल की इस रेल दुर्घटना को कम कर के नहीं आंका जा सकता।

शून्य दुर्घटना का संकल्प लेने वाली रेलवे की हालत यह है कि 2016 के नवंबर से अब तक कई रेल दुर्घटनायें हो चुकी हैं। जिन दुर्घटनाओं में जान नहीं जाती उनका जिक्र तक नहीं होता।

सबब यह कि देश में आये दिन रेल दुर्घटनायें होती ही रहती हैं जिनमें जान का नुकसान कम या माल का ज्यादा नहीं होता, वे सुर्खियों का सबब नहीं बन पातीं पर छोटी ही सही, वे भी दुर्घटनाओं में ही गिनी जानी चाहिए, उसके लिए भी रेलवे का प्रबंधन, तकनीकी खामी अथवा व्यवस्था ही दोषी होती है। 

दो बरस पहले रेलवे में संरक्षा और सुरक्षा पर संसद की स्थायी समिति ने अपनी रिपोर्ट में लिखा कि रेल परिचालन में सुरक्षा के साथ कोई समझौता नहीं किया जा रहा है, वह रेल मंत्रालय के इस तर्क से संतुष्ट नहीं है। उसने चेताया कि मंत्रालय सुरक्षा की गंभीरता को समझे।

डिब्बों के टकराने, पटरी से उतरने, रेलगाड़ी में आग लगने और समपार आदि पर हुई 100 से अधिक रेल दुर्घटनाओं में रेलवे की कोई न कोई चूक शामिल थी जिससे बचा जा सकता था।

सच बात तो यह है कि सब इच्छाशक्ति और निष्ठापूर्ण कर्तव्य निर्वहन की कमी और प्रचार की अतिशय भूख के साथ कुप्रबंधन को ढंकने का नतीजा है।

रेलवे यदि अपनी सभी पुरानी दुर्घटनाओं की ईमानदार जांच करें, वह केवल तकनीक, मशीनों, छोटे कर्मचारियों पर थोपने और उसकी रिपोर्ट संबंधित महकमे को बचाने के लिए महज लीपापोती के लिए न हों तो हर तरह की खामियां सामने आ सकती हैं।

देश में छोटी-बड़ी रेल दुर्घटनायें बहुतायत में होती हैं, इसकी ईमानदार जांच तकनीक और व्यवस्था में एक से एक बारीक खामी को पकड़ सकती है। बड़ी रेल दुर्घटनाओं की वजहें दर्जन भर से ज्यादा नहीं हैं। 

इनको दूर करने पर ध्यान केंद्रित कर कुशलतापूर्वक कार्य किया जाए तो मंत्रालय शून्य दुर्घटना के लक्ष्य के करीब पहुंच भी सकता है। पर इतना कौन कहे रेलवे तो अपने रुटीन और मूलभूत काम भी नियमित नहीं करता।

हर दस साल पर रेल की पटरी बदलनी चाहिए। क्या इस लक्ष्य पर काम होता है। सात दशकों में पटरियां खूब बिछीं, नेताओं की मांग पर ट्रेनें कई चलीं। 

इनके प्रबंधन के लिए रेलवे अधिकारियों की बढ़ोतरी कई गुना हुई पर परिचालन के लिए जिम्मेदार कर्मचारियों की संख्या लगभग आधी हो गई। स्टेशन मास्टर को प्रथमदृष्टया दोषी मानने के बावजूद हमेशा की तरह इस दुर्घटना की जांच के आदेश दे दिए गए हैं। सर्वविदित है आगे क्या होगा।

विगत दुर्घटनाओं की जांच का क्या हुआ? जांच की घोषणा महज रस्म अदायगी है। रेल मंत्रालय हमेशा जनता की जेब पर नजर गड़ाए रखने और प्रचार पिपासु होने की बजाय अपनी आधारभूत संरचना, कर्मचारियों की संख्या, संरक्षा-सुरक्षा पर ध्यान दे, तो दुर्घटनाओं में कमी लाई जा सकती है।

पर मंत्री बदलने मात्र से व्यवस्था तो नहीं बदलती। सवाल यह है कि शून्य दुर्घटना का संकल्प लेने वाली सरकार के शासन काल में इसकी भरमार क्यों है?

advertisement

  • संबंधित खबरें